Bachpan or aaj ki Pasand

0
440
shayari

बचपन मे हम ज़ोर से रोते थे जो पसंद होता उसे पाने के लिए..

आज बड़े हो के चुपके से रोते है जो पसंद है उसे भुलाने के लिए

SHARE
Previous articleSurprise ! Have Acne
Next articleThaggu Ke Samose

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here