MAA

2
202
maa

मुझे रोशिनी से भरे सवेरे देने के लिए,
ना जाने उसने अपने वक़्त से कितने लम्हे मेरे नाम कर दिए…
मेरे कदमो को बढ़ाने के लिए
ना जाने कितनी दफ़ा उसने अपने कदम थाम लिए…
सलाम है माँ तुझे
मेरे सपनो के लिए तूने अपने सपने कुर्बान कर दिए…

Follow me on Blogarama

SHARE
Previous articleJawahar Park
Next articleDEAR CRUSH

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here