किस्मत

7
446

अगर तेरी चाहत मुझे गिराने की है
तो मेरी भी फ़ितरत उठ के मुस्कराने की है…
आज वक़्त तेरा है, आज़मा ले मुझे
कल बारी मेरा परचम लहराने की है…

7 COMMENTS

  1. ना मैं किस्मत में मानता, ना मैं रखता भाग्य में विश्वास।
    मुझे तो चलना निंरतर और कर्म का लेना है सहज अहसास।।

  2. Yaad aata hai wo guzra hua waqt, Sochta hu bewafa mai hun ya wo.
    Tod di thi humne duniya ki rasmein, Lekin ek raah par chal na paye.
    Wo pyar hi tha na jo humne kiya, Lekin jhoota to koi hai mai ya wo.
    Hum bichad to gaye hai lekin, Hai udas kaun mai ya wo.
    Humne jeene marne ki saath khayi thi kasmein, Lekin jee raha hai kaun mai ya wo.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here