Monday, June 18, 2018

शतरंज

उसे लगा मै गवाँ रहा था मै तो खुशियाँ कमा रहा था... खिलखिला रही थी मुझे एक बाज़ी हराकर मै भी खुश था उसकी मुस्कान जीतकर...

मोम की तरह

मोमबत्ती की तरह बड़ी अकड़ मे खड़ी है तू प्रेम की तिल्ली जो लगाई मैने तो मोम की तरह पिघल जाएगी...

बेवक्त

वक्त भी मेरा बड़ा नाराज़ था मुझसे, उसे करीब भी लाया मेरे और बेवक्त ले भी गया..
shayari

Bachpan or aaj ki Pasand

बचपन मे हम ज़ोर से रोते थे जो पसंद होता उसे पाने के लिए.. आज बड़े हो के चुपके से रोते है जो पसंद है...

Shayari

Chaand bhi kya ajeeb cheez hai..ZAALIM.. Bachpan mei Maamu or Jawani me Jaanu nazar aata hai..

बारिश

आज फिर तू बूंदे बन यादो मे भिगो गयी, चाहत तो तेरे दिल मे भी थी, ना जाने फिर क्यूँ गयी...
maa

MAA

मुझे रोशिनी से भरे सवेरे देने के लिए, ना जाने उसने अपने वक़्त से कितने लम्हे मेरे नाम कर दिए... मेरे कदमो को बढ़ाने के लिए ना...

Block title

2FollowersFollow
0FollowersFollow
196FollowersFollow

Latest article

New Joke On Facebook

     

New Joke “Are you single?”

मेरा फ्रेंड दुखी होकर बेठा था तो मेने पूछ लिया;क्या हुआ? फ्रेंड:  एक खूबसूरत लड़की ने मुझसे रेस्टोरेन्ट में सवाल पूछा – “आर यू सिंगल ?” और मैंने...

New Joke Dr. Gulati & Alia bhatt

Dr. Gulati : अरे और कितनी देर लगाओगी तेयार होने में ? Alia : चिलाना बन्द करो । पिछले एक घण्टे से बोल रही हूँ पांच मिन्ट...